हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

आस्तिक हूँ मैं - धर्म जैन

1-आस्तिक हूँ मैं (1)

तुम्हें छूता हूँ इस आस के साथ

कि कभी

तुम छू लोगे मुझे।

जब मैं छूता हूँ तुम्हें,

मन ठहर जाता है

समन्दर में उठा चक्रवात थम गया हो जैसे

मद्धिम-सी मुस्कुराहट चेहरे पर फैल जाती है

मैं एकटक देखता रहता हूँ तुम्हें

इस आस के साथ

कि कभी

तुम देख लोगे मुझे।

जब मैं छूता हूँ तुम्हें

गुनगुनाने लगता हूँ अपने ही भीतर

सुनने लगता हूँ धड़कनों के कम्पन को

कोई गीत बन रहा होता है

इस आस के साथ

कि कभी

तुम सुन लोगे मुझे।

जानता हूँ

तुम सुनते भी हो

देखते भी हो

छूते भी हो

बस मुझे बताते नहीं।

-0-

2-आस्तिक हूँ मैं (2)

कोई तो हो जिसे मैं कह सकूँ

वह सब कुछ

जो कहना चाहता हूँ;

क्योंकि किसी और को कह नहीं सकता।

मैं क्यों कह रहा हूँ तुम्हें ?

इसीलिए कि

तुम कोई प्रतिक्रिया नहीं देते

कोई प्रतिप्रश्न नहीं करते

सुनते ही नहीं हो

या सुनकर अनसुना कर देते हो

फ़र्क पड़ता है मुझे

तुम्हारे सुनने या अनसुना कर देने से

मैं कहना चाहता हूँ अपनी बात

ताकि मन में कुछ न रहे अनकहा।

नहीं चाहा मैंने

तुम कभी बनो मेरे पार्थ

नहीं चाहा कि तुम दे दो मुझे

ज्ञान-विज्ञान, मंत्र-तंत्र या वरदान

मैं खुश हूँ, जिस हाल में मैं हूँ

मैं खुश हूँ, जैसे तुम अभी हो

तटस्थ, निर्विकार, निर्मोही, निश्छल।

बस मुझे अच्छा लगता है कि तुम हो

तुम्हारे नहीं होने से तुम्हारा होना अच्छा है

तुम नहीं होते ,तो मैं किसे दोष दे पाता

किसे सुना पाता खरी-खोटी

किसके सामने हो पाता रूआँसा

चलता हूँ अब, कल फिर आऊँगा।

-0-

धर्म जैन

Dharm Jain 17जन्म : 1952, रानापुर, जिला – झाबुआ, म. प्र.

पूरा नाम : धर्मपाल महेंद्र जैन

शिक्षा :भौतिकी, हिन्दी एवं अर्थशास्त्र में ससम्मान  स्नातकोत्तर

प्रकाशनतीन सौ से अधिक कविताएँ, हास्य-व्यंग्य प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित, आकाशवाणी से प्रसारित। ‘सर क्यों दाँत फाड़ रहा है’ व्यंग्य संकलन प्रकाशित।

संपादन :  स्वदेश दैनिक (इन्दौर) में 1972 में संपादन मंडल में, 1976-1979 में शाश्वत धर्म मासिक में प्रबंध संपादक।

संप्रति : सेवानिवृत्त, स्वतंत्र लेखन। दीपट्रांस में कार्यपालक। पूर्व में बैंक ऑफ इंडिया, न्यू यॉर्क में सहायक उपाध्यक्ष एवं उनकी कईं भारतीय शाखाओं में प्रबंधक।

स्वैच्छिक : जैना, जैन सोसायटी ऑफ टोरंटो व कैनेडा की मिनिस्ट्री ऑफ करेक्शंस के तहत आय एफ सी में पूर्व निदेशक। न्यू यॉर्क में सेवाकाल के दौरान भारतीय कौंसलावास की राजभाषा समिति और परमानेंट मिशन ऑफ इंडिया की सांस्कृतिक समिति में सदस्य। तत्कालीन इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकर्स में परीक्षक।

ईमेल : dharmtoronto@gmail.com        फ़ोन : + 416 225 2415

सम्पर्क : 1512-17 Anndale Drive, Toronto M2N2W7, Canada