हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

यमराज की व्यथा- कथा - अशोक गौतम

मुहल्ले को ताज़ा सब्जी उधार- सुधार दे खुद पत्तों से रोटी खाने वाला रामदीन कमेटी के जमादार को रोज- रोज नाली के ऊपर सब्जी की दुकान लगाने के एवज में दो- दो किलो सब्जी देकर तंग आ गया तो उसने यमराज से गुहार लगाई,‘ हे यमराज महाराज! या तो मुझे इस देस से उठा लो या इस कमेटी के भूखे को। अब मैं इसे और मुफ्त में नहीं खिला सकता। ये बंदा है कि रोज मुझे डरा -धमकाकर सब्ज़ी ले जाता है।इस रोज- रोज के मरने से तो बेहतर है कि अब मुहल्ले वालों को किलो के बदले सात सौ ग्राम सब्जी तोल-तोलकर अपना नरक भी कब तक खराब करूँ?’
मित्रो! इसे संयोग ही कहिए कि उस वक्त यमराज चित्रगुप्त के साथ वहाँ से मास्टर जी को लेने बाण मुहल्ले जा रहे थे। असल में उन्होंने क्लास में न पढ़ा घर में बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने से पूरे -पूरी क्लास के बच्चों के बापों को आतंकित कर रखा था। पर ज्यों ही उन्होंने रामदीन की आर्त्त आवाज सुनी ,तो वे मास्टर साहब के घर का रास्ता भूल गए और कमेटी के जमादार करीमदीन के घर की ओर लाल -पीले होते लपके। चित्रगुप्त को क्रीमदीन के घर के बाहर खड़ा कर दबे पांव वे क्रीमदीन के घर में घुसे ही कि तभी एक अनहोनी हो गई और क्रीमदीन के वफादार कुत्ते ने अजनबी को घर में घुसते देख यमराज की टाँग काट खाई। बेचारे यमराज से कुत्ते के काट खाने पर न रोते बना ,न हँसते। रोएं तो क्रीमदीन को पता चल जाए और जो हँसे तो किस पर?
आखिर उन्होंने तय किया कि चुपचाप पहले तो कुत्ते के काटने के इंजैक्शन लगवाए जाएँ ,बाकी बाद में देखा जाएगा। कहीं ऐसा न हो क्रीमदीन का कुत्ता सरकारी कर्मचारियों की तरह पालतू होने के बाद भी पागल निकले और….
उन्होंने चित्रगुप्त को साथ लिया और अपनी टाँग दबाते -सहलाते पास के सरकारी अस्पताल में जा पहुँचे। बड़ी मुश्किल से जनता के बीच खड़े हो पर्ची बनी तो वे अपनी पर्ची लेकर ओपीडी के डॉक्टर के पास जा पहुँचे। डॉक्टर साहब उस वक्त नशे में लग रहे थे। यमराज को देखने के बाद भी बोले,’ कौन?’
‘ यमराज!’
‘बड़ा अजीब नाम है यार ! कहाँ से आए हो?’
‘यमलोक से ।’
‘ पहली बार दिल्ली में किसी ऐसे लोक का नाम सुना। कहाँ बनी है ये सोसाइटी? क्या करते हो?’
‘ जीवों को कैरी करता हूँ।’
‘अच्छा तो, ट्रांसपोर्टर हो। अच्छा बिजनेस है ये भी। फिर इस अस्पताल में क्यों? अपोलो- सपोलो में क्यों नहीं? चलो बैठो स्टूल पर और अपनी टाँग आगे करो। क्या हो गया?’
‘साहब ,कुत्ते ने काट खाया,’ यमराज ने डॉक्टर साहब को कटी टाँग की कटी पतलून ऊपर चढ़ा टाँग बतानी चाही तो वे मुँह- सा बनाते बोले,‘ परे करो ये टाँग! बास आ रही है। कुत्ते ने काट खाया है? कोई बात नहीं। तकदीर वाले हो। यहाँ पर आजकल कुत्ते के खाने से नहीं, आदमी के खाने से मरने का खतरा ज्यादा है। सेफ्टी के लिए ये – ये टेस्ट करवा लो,’ कह डॉक्टर ने टेस्ट लिखे तो यमराज ने पूछा,‘ ये टेस्ट कहाँ होंगे?’
‘बाहर सामने पीके टेस्ट लैब है। मेरा नाम ले लेना कि डॉक्टर वर्मा ने भेजा है, नेक्स्ट रमेश कुमार…..’ डॉक्टर साहब का आदेश पा यमराज अस्पताल से बाहर आ गए । बाहर चित्रगुप्त और वे दोनों पीके लैब ढूँढने लगे कि तभी चित्रगुप्त ने चिल्लाते कहा,‘ साहब! वो रही पीके लैब!’ यमराज ने वहाँ जाकर लैब वाले को डॉक्टर की लिखी पर्ची पकड़ाई तो वह उसे ले उछलता बोला,‘ तो आप हैं यमराज साहब?’
‘हाँ ! साथ में ये चित्रगुप्त है।’
हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। पेशेण्ट के साथ कोई हो या ना , पर पेशेंट के साथ पैसे जरूर होने चाहिए बस।’
‘ कितने लगेंगे?’
‘दस हजार!’
‘दस हजार!!’ यमराज का मुँह खुला का खुला रह गया, तो चित्रगुप्त ने बंद कराया।
‘हाँ तो दस हजार। आपकी किडनी का, लीवर का, ब्लड का, हार्ट का , दिमाग का टेस्ट होना है।’
‘पर काटा तो कुत्ते ने है। वह भी टाँग पर!’
‘ लक्की हो यार! आदमी ने काटा होता तो……पूरी बॉडी तो स्कैन करनी ही पड़ती और भी न जाने क्या- क्या करना पड़ता।’
टेस्ट हुए तो यमराज ने चैन की साँस ली।
‘दो घंटे बाद आ जाना रिपोर्ट लेने।’
दो घंटे बाद रिपोर्ट ले यमराज डॉक्टर साहब के पास पहुँचे, तो डॉक्टर ने रिपोर्ट देख गम्भीर हो कहा,‘ ओह यमराज साहब! हद हो गई। आप इतने दिन तक थे कहाँ ?’
‘क्या मतलब??’
‘मतलब ये कि… कटी टाँग को मारो गोली। आपका तो हार्ट बढ़ गया है। देखो तो, दाईं किडनी स्रिन्क हो गई है। और ये लीवर…. पेट में पता नहीं फिट कैसे है? यह तो इतना बढ़ गया है कि……. और ये बी पी….. कुछ महसूस कर रहे हो? दारू – शारू तो नहीं लेते? लेते हो तो ….’
‘ अपने को बहुत असहाय फील कर रहा हूँ । पर डॉक्टर साहब…..’
‘पर वर कुछ नहीं… बची जिंदगी जीनी है तो अस्पताल में अभी भर्ती हो जाओ, नहीं हुए तो भी अब हम आपको अस्पताल से बाहर नहीं जाने देंगे। अब हम मरीज को जिंदा घर कैसे जाने दे सकते हैं? अब तो आप बस एक ही बार हमारे अस्पताल से बाहर जा सकेंगे , आई मीन…. जीव के भाग में जहाँ लिखी की होती है ,वह छोड़ने वहीं जाता है। वैसे भी यार अपने घर में मरने से बेहतर डॉक्टरों की देखरेख में यहाँ मरना अधिक सेफ होता है। पर कोई समझे तब न! ’ डॉक्टर साहब ने कहा तो वे दोनों एक दूसरे का मुँह ताकने लगे।
‘कितने दिन तक ठीक हो जाऊँगा डॉक्टर साहब मैं ?’
‘ देखिए जनाब! हमारे अस्पतालों में रोगी आता हमारी मर्जी से है और जाता भगवान की मर्जी से है,’ कह डॉक्टर साहब हँसे तो यमराज कुछ गम्भीर हुए,‘ मतलब??’ डॉक्टर साहब ने उनके मतलब का उत्तर नहीं दिया तो नहीं दिया।
तब कोने जैसे में ले जाकर चित्रगुप्त ने यमराज को समझाते कहा ,‘ महाराज! हूँ तो पद मैं आपसे बहुत छोटा ,पर जान है तो जहान है। रही बात डॉक्टर की, तो मुझे वह गप्पी ज्यादा लगता है। उसे गंभीरता से न लो महाराज ! डर के आगे ही तो जीत होती है। अगर कहीं सच्ची को ज्यादा बीमार हो गए तो? जब मृत्युलोक में आए ही हैं ,तो इलाज करवाते चलिए। काम तो मरने के बाद भी खत्म नहीं होते।’
और न चाहते हुए भी यमराज चित्रगुप्त के कहने पर अस्पताल में एडमिट हो गए। उन्हें चारपाई पर लिटा दिया गया। एक फटा हुआ कंबल ऊपर को !चारपाई में खटमल इतने कि एकाएक डॉक्टर देखने आया तो ढेर दवाइयाँ लिख गया। चित्रगुप्त डॉक्टर की लिखी दवाइयों से भरा झोला लेकर आए तो यमराज ने पूछा,‘ चित्रगुप्त! ये क्या झोले में सब्जी लेकर आए?’
‘ नहीं हुजूर! आपको लिखी दवाइयाँ हैं,’ कहकर चित्रगुप्त यमराज का मुँह ताकने लगे ,तो यमराज ने चारपाई पर पड़े-पड़े ही पूछा,‘ इतनी!!’
दूसरा आया तो पहले की दवाइयाँ खारिज करके अपनी लिख गया तो फिर दवाइयों का एक झोला। रात को तीसरा डॉक्टर आया तो यमराज की चारपाई से लटके गत्ते के चिमटु से कागजों के दबे गले को मुक्त कर उसने चारपाई के पास स्टूल पर बैठे चित्रगुप्त से गुस्से में पूछा ,‘ किस गधे ने ये दवाइयाँ लिख दी इन्हें?’
‘डॉक्टर साहब! आपसे से पहले जो आए थे ।’
‘ सब बेकार।’
‘तो अब इन दवाइयों का क्या करें?’
‘मरना… सॉरी ,जीना चाहते हो तो इन्हें तुरंत बंद कर नाले में फेंक दो,’ कहकर वे फुर्ती से अगले रोगी के बेड के पास हो लिये, कमीशन ली कम्पनी की दवाइयाँ लिखने।
सारी रात यमराज सो नहीं पाए। सोते तो तब, जो उन्हें खटमल सोने देते। इस तरफ से अपने को खटमलों से बचाते तो उधर से खटमल वार कर देते। उस तरफ से बचाते तो इस तरफ से। वे चाहकर भी खटमलों को मार नहीं सकते थे; क्योंकि अभी उनकी मृत्यु नहीं लिखी थी।और वे जानते थे कि जब तक जीव की मत्यु न आई हो वे तो वे, कोई भी जीव का बाल तक बाँका नहीं कर सकता। उधर स्टूल पर बैठे चित्रगुप्त अपने को कोस रहे थे। बेचारे न सो पा रहे थे ,न जागा जा रहा था।
जैसे -कैसे सुबह हुई तो दोनों ने चैन की साँस ली। तभी मेस वाला चाय-चाय की हाँक लगाता आया तो चित्रगुप्त ने देखा कि सभी रोगी के साथ वाले अपने- अपने रोगी के लिए कम ,अपने लिए अधिक बड़ा गिलास चाय का भर-भर ले रहे हैं, तो एक रोगी के साथ वाले से चित्रगुप्त ने पूछा,‘ ये क्या है?
‘चाय! फ्री की है,’ चित्रगुप्त ने भी यमराज के सिरहाने रखा गिलास उठाया और उनके लिए चाय ले आया। जैसे लेटे -लेटे यमराज ने चाय का घूँट लिया तो उनको उल्टी आ गई।
‘क्या हो गया साहब?’
‘यार , ये चाय है या…….. अपने यहाँ तो गटर का पानी भी इससे अच्छा होता है।’
‘फ्री में तो यही मिलेगी । जेब में पैसे हैं ,तो बाहर से ले आओ। बीस रुपये की है। है हिम्मत!’ चाय देने वाला बड़बड़ाया और वार्ड से बाहर हो लिया।
तभी एक डॉक्टर का मैला सा कोट पहने सुई लेकर आया और यमराज से कहा,‘ सीधे हो जाओ, आपका खून लेना है।’
‘अब किसलिए?’
‘ आपका एच-बी चेक करना…,’ वाक्य पूरा कहने से पहले ही उसने यमराज के दाएँ कूल्हे में सुई दे मारी। पर हैरानी! सीरिंज में खून की बूँद तक नहीं। यह देख वह परेशान हुआ,‘ हद है यार। एक बूँद भी खून नहीं? साँसें कैसे ले रहे हो?’
‘खून तो था , पर रात को खटमल सारा पी गए,’ यमराज ने बेदर्दी से चुभोई सुई के दर्द से कराहते कहा। पर वह नहीं सुना तो नहीं सुना और डॉक्टर के पास जा पहुँचा। डॉक्टर को सारा किस्सा बताया तो वह दौड़ा- दौड़ा आया और बिन कुछ कहे यमराज को आईसीयू में शिफ्ट करने के बाद चैन की साँस लेता बोला, ‘ किस्मत वाले हो यार जो आईसीयू खाली मिल गया मरने को, नहीं तो… बेड पर ही खटमलों के बीच पड़े- पड़े मर जाते। । यहाँ तो वीवीआईपी ही कब्जा किए रहते हैं,’ चित्रगुप्त द्वार पर खड़े- खड़े सारा सीन देखते रहे और यमराज के साँस लेने के लिए डॉक्टर ने मुँह मास्क जबरदस्ती फँसा दिया। देखते ही देखते यमराज के बेड के चारों ओर मशीनें घरघराने लगीं।
आईसीयू में यमराज को फिट करने के बाद बाहर आ डॉक्टर ने चित्रगुप्त को पास बुलाते पूछा,‘तुम कौन हो इसके?
‘मैं… मैं….’
‘देखो ! कंडीशन क्रिटिकल है। कुछ भी हो सकता है। मैंटली तैयार रहना। लगता है , इलाज मरने के बाद भी लम्बा चलेगा। हम कोशिश तो बंदे के मरने तक ही करते हैं पर…. सरकारी इम्प्लाइ हैं या….. पैसे का इंतजाम कर लो। बाकी यमराज की मर्जी! डरो मत! अब तुम सही जगह पहुँच गए हो,’ कहकर डॉक्टर आगे हो लिया। यमराज बेड पर जकड़े- जकड़े टुकुर- टुकुर डॉक्टर को मुस्कुराते बाहर जाते देखते रहे , वे डॉक्टर से कुछ कहना चाह रहे थे, पर असहाय कुछ कह नहीं पा रहे थे। आईसीयू के दरवाजे पर बुत हो खड़े चित्रगुप्त को काटो तो खून नहीं। सरकारी अस्पताल में रोगी और अटैंडेंट का ये कैसा दुर्लभ नजारा है प्रभु!
-0-