हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

श्री जगदीश शारदा जी का देहावसान - सम्पादक

 जीवन-काल: 7 जनवरी1922 -25 दिसंबर 2017

हिंदी भाषा  एवं भारतीय संस्कृति के प्रचारक ,श्री जगदीश शारदा जी, इन्हें आदर से सभी लोग शास्त्री जी के नाम से सम्बोधित करते थे । इनका जन्म भारत में हुआ था । तरुण अवस्था में आप कीनियाँ चले गए थे । वहां जाकर अपनी भाषा और संस्कृति का प्रचार किया । आप सनातन धर्म विद्यालय के प्रधान अध्यापक रहे । लगभग 40-50 वर्षों से कैनेडा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे । इन्होंने और अनेक शाखाएँ स्थापित कीं  ।  हिंदी कवि गोष्ठियों  में सदैव भाग लेते थे । आपकी कविताएँ सामयिक एवं शिक्षाप्रद  एवं  छंदोबद्ध  होती थीं ।  हिंदी चेतना में आपकी रचनाएँ प्रकाशित हुई थीं । आपकी वाणी में मधुरता थी । हर एक के साथ मैत्री और स्नेह का व्यवहार था । लगभग 20वर्षों से ‘हिन्दू इंस्टीट्यूट’स्थापित करने के प्रयास में लगे हुए थे ।

 हिंदी चेतना के प्रारम्भ से ही सदस्य थे और एक परिवार की तरह मेरे साथ बड़े स्नेह से मिलते थे । आपकी आयु 95  वर्ष की थी । उनका पूरा जीवन हिंदी -हिन्दू और हिन्दुस्तान के लिए समर्पित था ।  हिन्दू समाज ने एक सच्चा देश भक्त , भाषा प्रेमी , हिंदी साहित्य प्रेमी  और एक कुशल शिक्षक खो दिया । हिंदी चेतना परिवार की ओर  से शास्त्री जी की आत्मा को श्रद्धा सुमन  । श्याम त्रिपाठी

-0-