हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

साहित्यकारों का सम्मान, पुस्तक लोकार्पण एवं विराट कवि सम्मलेन - सम्पादक

मसूरी: 12 नवम्बर 2017– साहित्यिक स्वच्छता के प्रति समर्पित ‘कायाकल्प साहित्य कला 1-क - Copyफ़ाउण्डेशन, नोएडा’ द्वारा दूरदर्शिता युक्त साहित्यिक अभियान देवभूमि उत्तराखण्ड से प्रारम्भ प्रथम काव्यानुष्ठान ‘कविता की डोर, उत्तराखण्ड की ओर’ अत्यन्त भव्यता के साथ पहाड़ों की रानी मसूरी, उत्तराखण्ड के झड़ीपानी स्थित ओक ग्रोव स्कूल के डॉ. डी. के. झा प्रेक्षागार में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम तीन सत्रों में हुआ। प्रथम सत्र में पुस्तक लोकार्पण, द्वितीय सत्र में सम्मान समारोह एवं तृतीय सत्र में कवि- सम्मेलन हुआ।

समारोह के प्रथम सत्र-पुस्तक लोकार्पण समारोह का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन एवं मंचासीन अतिथियों 4के सम्मान के साथ हुआ,जिसमें विद्यालय के प्रधानाचार्य सुकवि श्री जयप्रकाश पाण्डेय द्वारा रचित एवं सद्य प्रकाशित काव्यकृति ‘दरिया के दो पाट’ का भव्य लोकार्पण हुआ। इस अवसर पर  मुख्य अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार श्री लक्ष्मी शंकर बाजपेयी (पूर्व-उपमहानिदेशक, आकाशवाणी, नई दिल्ली), कार्यक्रम के अध्यक्ष पं.सुरेश नीरव एवं कायाकल्प साहित्य फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सुप्रसिद्ध गीतकार डॉ.अशोक मधुप, श्री असीम शुक्ल, डॉ. राम विनय सिंह, राधा कान्त पाण्डेय  ने पुस्तक पर अपने विचार व्यक्त किए। सम्पूर्ण समारोह का भव्य अभूतपूर्व संचालन प्रतिष्ठित ग़ज़लकार, सम्पादक-साहित्य ऋचा एवं फ़ाउण्डेशन के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ.अरुण सागर ने किया और अपने मुक्तक एवं ग़ज़लें भी सुनाए।

द्वितीय सत्र-सम्मान समारोह में फ़ाउण्डेशन द्वारा चयनित कवियों-साहित्यकारों को उनके साहित्यिक प्रदेय हेतु सम्मानित किया गया। इस क्रम में साहित्यकारों सर्वश्री- डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र एवं असीम शुक्ल को ‘कायाकल्प साहित्य शिरोमणि सम्मान, 2017’ से सम्मानित किया गया। डॉ. राम विनय सिंह, 2क - Copyअम्बर खरबन्दा एवं भारत में हिंदी चेतना की प्रतिनिधि डॉ. कविता भट्ट श्रीनगर (गढ़वाल), उत्तराखंड  को साहित्य।लेखन हेतु ‘कायाकल्प साहित्य भूषण सम्मान, 2017’ से सम्मानित किया गया और सर्वश्री जयप्रकाश पाण्डेय, राकेश जुगराण एवं जसवीर सिंह ‘हलधर’ को ‘कायाकल्प साहित्यश्री सम्मान, 2017’ से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विद्यालय की ओर से समारोह से अभिभूत प्रधानाचार्य श्री जे. पी. पाण्डेय द्वारा सर्वश्री डॉ.अशोक मधुप (राष्ट्रीय अध्यक्ष।राष्ट्रीय संयोजक) एवं डॉ. अरुण सागर (कार्यकारी अध्यक्ष।सह-राष्ट्रीय संयोजक) को सम्मान प्रतीक भेंट कर सम्मानित किया गया।

समारोह के तृतीय सत्र-कवि सम्मेलन का शुभारम्भ कानपुर से पधारी कवयित्री डॉ. भावना तिवारी 5‘वैदेही’ की वाणी वन्दना से हुआ। इस अवसर पर आयोजित विराट कवि सम्मेलन में सर्वश्री।सुश्री -लक्ष्मीशंकर बाजपेयी (दिल्ली), पं. सुरेश नीरव (्गाज़ियाबाद), असीम शुक्ल (देहरादून), कृष्णदत्त शर्मा ‘कृष्ण’ (देहरादून), डॉ. अशोक मधुप (नोएडा), अम्बर खरबन्दा (देहरादून), डॉ० कविता भट्ट (श्रीनगर), किसलय क्रांतिकारी (रुड़की), जसवीर सिंह ‘हलधर’  (देहरादून), राकेश जुगराण (देहरादून), श्रीकान्त श्री (देहरादून), सुबोध बाजपेयी (देहरादून), ममता किरण (दिल्ली), राधा मैन्दोली ‘माधवी’ (श्रीनगर), आरती पुण्डीर (श्रीनगर), डॉ. तूलिका सेठ (ग़ज़ियाबाद), ममता मधुर (फ़रीदाबाद), नीरज नैथानी (रुड़की), जयकृष्ण पेन्यूली (कीर्ति नगर), जयप्रकाश पाण्डेय (मसूरी), शादाब अली (देहरादून), राकेश जैन (देहरादून), अवधेश तिवारी ‘भावुक’ (दिल्ली), विनय कुमार मसूरी), केतकी भारतीय (मसूरी) के अतिरिक्त ओक ग्रोव स्कूल, मसूरी के 9 विद्यार्थियों ने भी कविता पाठ किया। इस प्रकार लगभग 7 घण्टे से अधिक चले इस महा काव्यानुष्ठान में उत्तराखण्ड, दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश से पधारे 40 से अधिक कवियों, कवयित्रियों एवं शायरों द्वारा इस महा काव्यानुष्ठान में अपनी काव्याहुति देकर समारोह को अत्यन्त शानदार और यादगार बना दिया गया।

समारोह में विशेष सहयोगी बने संयोजक मण्डल के सदस्यों सर्वश्री जे. सी. वर्मा (उद्यमी।संरक्षक), मित्र शर्मा (एडवोकेट।उपाध्यक्ष) एवं शंकर कृष्ण (उप सम्पादक, साहित्य ऋचा) सहित सभी कवियों को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर श्रीमती संजू पाण्डेय, श्री कृष्ण कुमार, डॉ. संजय दुबे, डॉ.अतुल कुमार सक्सेना सहित संस्थान के अनेक शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं कर्मचारियों की गरिमापूर्ण उपस्थिति ने समारोह में चार चाँद लगाये। इस भव्य समारोह की शानदार यादगार सफलता में साहित्य ऋचा और ओक ग्रोव स्कूल का विशेष योगदान रहा।

-0-