हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

हिन्दी बचाओ दिवस - सम्पादक

ऑर्लेंडो, फ्लोरिडा (उ. अमेरिका)– रविवार, दिनांक 17 अप्रैल 2016.
अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ हिन्दू नॉलिज़, अमेरिका तथा भारतीय विद्या संस्थान अमेरिका के संयुक्त तत्त्वावधान में हिन्दी बचाओ शीर्षक से हिन्दी दिवस का आयोजन किया गया। भारतीय विद्या संस्थान कई देशों में विगत पचास वर्षों से हिन्दी के प्रचार, प्रसार तथा शिक्षण का कार्य सफलतपूर्वक करता रहा है। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन तथा महाकवि प्रो . हरि शंकर आदेश द्वारा रचित सरस्वती वन्दना – मां शारदे ! मां शारदे ! भव–सिन्धु से तू तार दे, तथा गणेश–वन्दना – जय गणपति गजवदन विनायक आदि गीतों से हुआ। तत्पश्चात् हिन्दी के खेलों का आयोजन किया गया, जिनमें भाग लेने वाले बच्चों का उत्साह देखते ही बनता था। इस कार्यक्रम में लगभग तीस बच्चों ने भाग लिया।
बच्चों के Hindi Bachaao Programme (News)_001अभिभावकों ने भी इस कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। निर्णायक मंडल के सदस्य थे :– श्रीमती अज़रा बाटला, नियति पटेल, वीना चोपरा, स्वातिपटेल (महिलाएँ) श्री रौनक जी, संजय तथा हरेश जी (पुरुष)। संस्थान की ऑर्लेंडो शाखा की मुख्याधिष्ठात्री श्रीमती कादम्बरी आदेश ने अपने प्रारंभिक भाषण में कहा – हिन्दी हमारा घर है और बाकी भारतीय भाषाएँ उस घर के सुन्दर कक्ष हैं। हम कक्ष को तो भली -भाँति सजाते हैं :परन्तु घर की उपेक्षा कर जाते हैं। यदि घर ही नहीं बचा तो कक्ष भी नहीं रहेंगे। आओ हिन्दी बचाएँ।
अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ हिन्दू नॉलिज़, अमेरिका के मुख्य रजिस्ट्रार श्री विवेक शंकर आदेश ने अपने बीज वक्तव्य में कहा – समय की माँग है कि हम सब अपना समय और धन हिन्दी के शिक्षण में भी उसी तरह लगाएँ जैसे बाक़ी विषयों में लगाते हैं। हम बच्चों को हिन्दी उसी लगन से सिखाएँ जैसे और विषय।
हिन्दी भारतीय संस्कृति की मूल है । हिन्दी हमारी पहचान है , इसे न खो जाने दें।
इस कार्यक्रम में भारत के अतिरिक्त नेपाल, बांग्लादेश, गयाना, ट्रिनिडाड, पाकिस्तान, अमेरिका तथा कनाडा से आए हुए भारतीय परिवारों ने भाग लिया। कार्यक्रम का समापन धन्यवाद–ज्ञापन तथा स्वादिष्ट जलपान से हुआ।
-0-